सिस्टम यूनिट क्या है?

सिस्टम यूनिट संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां

कुछ कंप्यूटर, अन्य की अपेक्षा अधिक शक्तिशाली क्यों होते हैं? इसका उत्तर तीन शब्दों में है: गति, क्षमता और अनुकूलनीयता। यह अध्याय पढ़ने के बाद, आप यह समझने में सक्षम होंगे कि कोई विशेष पर्सनल कंप्यूटर कितना तेज, शक्तिशाली और बहुत उपयोगी है । जैसा कि आप आशा कर सकते हैं, यह ज्ञान बहुमूल्य है यदि आप कोई नया पर्सनल कंप्यूटर सिस्टम खरीदने या पुराना सिस्टम अपग्रेड करने की योजना बना रहे हों। इस ज्ञान से आपको यह आकलन करने में मदद मिलेगी कि कोई वर्तमान सिस्टम, आज के नए और रोचक एप्लिकेशंस के लिए पर्याप्त शक्तिशाली है अथवा नहीं।

संभवत: कभी आपको इसे देखने का अवसर मिला होगा जब कोई तकनीशियन, किसी पर्सनल कंप्यूटर को खोलता है। आप देखेंगे कि यह मूलरूप में इलेक्ट्रॉनिक सर्किट्री का एक संकलन होता है। जहां इसे समझने की कोई आवश्यकता नहीं है कि वे सारे भाग किस तरह कार्य करते हैं, वहीं इसके सिद्धांतों को समझना आवश्यक है। इस ज्ञान को प्राप्त करके आप खरीदारी और अपग्रेड करने के बारे में आत्मविश्वास के साथ उचित निर्णय ले सकेंगे।

कंप्यूटरों का दक्षतापूर्वक व प्रभावी उपयोग करने के लिए, आपको सिस्टम यूनिट के मुख्य घटकों की कार्यप्रणाली समझने की आवश्यकता है, जिसमें सिस्टम बोर्ड, माइक्रोप्रोसेसर, मैमोरी, एक्सपैंशन स्लॉट्स और कार्ड, बस लाइनें, पोर्ट्स, केबल और पॉवर सप्लाई यूनिट शामिल हैं।

सिस्टम यूनिट, जिसे सिस्टम चेसिस भी कहा जाता है, एक कंटेनर होता है, इलेक्ट्रॉनिक भाग होते हैं जो मिलकर कंप्यूटर सिस्टम बनाते हैं।

एक समय पर सभी सिस्टम यूनिट अलग केस में होती थी हालांकि इलेक्ट्रॉनिक पुजों को छोटा बनाने की दिशा में प्रगति होने के साथ सिस्टम यूनिट वाले कंप्यूटर छोटे होते चले गए जिनके कटेनर में कंप्यूटर सिस्टम के दूसरे भाग होते हैं।

जैसा कि हमने पहले चर्चा की पर्सनल कंप्यूटर सबसे ज़्यादा उपयोग किए जाने वाले कंप्यूटर का प्रकार है। यह सबसे किफायती होता है जिसे सीधे अंतिम उपयोक्ता द्वारा चलाने के लिए डिजाइन किया जाता है। डेस्कटॉप, लैपटॉप, टैबलेट, स्मार्टफोन और वीयरेबल कंप्यूटर ये पाँच सबसे सामान्य प्रकार हैं। प्रत्येक में अद्वितीय प्रकार की सिस्टम यूनिट होती है।

डेक्सटॉप

यह सबसे शक्तिशाली प्रकार का पर्सनल कंप्यूटर होता है। अधिकांश डेस्कटॉप की सिस्टम यूनिट एक पृथक केस में होती है। इस केस में सिस्टम के इलेक्ट्रॉनिक पुर्जे और अन्य चयनित स्टोरेज उपकरण होते हैं। इनपुट और आउटपुट उपकरण जैसे कि माउस, कीबोर्ड, और मॉनीटर, सिस्टम यूनिट के बाहर होते हैं। इस प्रकार की सिस्टम यूनिट सीधी खड़ी या लिटा कर रखने के लिए डिजाइन की जाती है। डेस्कटॉप सिस्टम यूनिट जो सीधी खड़ी रखी जाती है, वे कभी-कभी टॉवर यूनिट या टॉवर कंप्यूटर कहलाती हैं।

कुछ डेस्कटॉप कंप्यूटर, जैसे कि एप्पल का आईमैक, में मॉनीटर और सिस्टम यूनिट एक ही केस में होते हैं। ये कंप्यूटर ऑल-इन-वन कहलाते हैं।

लैपटॉप

यद्यपि ये डेस्कटॉप के समान शक्तिशाली नहीं होते, लेकिन लैपटॉप वहनीय (पोर्टेबल) और अधिक छोटे होते हैं। इनकी सिस्टम यूनिट चयनित सैकंडरी स्टोरेज उपकरणों और इनपुट उपकरणों (कीबोर्ड और प्वाइंटिंग उपकरण) के साथ स्थित होती है। सिस्टम यूनिट के बाहर स्थित मॉनीटर, कब्जों द्वारा जुड़ा होता है।

अनेकस्पेश्लाइज़्ड लैपटॉप हैं जिनकी विशेषताएं उन्हें अद्वितीय बनाती हैं। इनमें से कुछ निम्न हैं:

1. टू-इन-वन लैपटॉप में एक टच स्क्रीन होती है और इन्हें टैबलेट कंप्यूटर की तरह मोड़कर दोहरा किया जा सकता है। ये लैपटॉप, टैबलेट की सुविधा के साथ लैपटॉप के फायदे प्रदान करते हैं।

2. गेमिंग लैपटॉप, जिनमें उच्च-कोटि का ग्राफिक्स हार्डवेयर और बहुत तेज गति के प्रोसेसर लगे होते हैं। कभी ज्यादातर गेमर डेस्कटॉप कंप्यूटर पसंद करते थे। लैपटॉप अधिक शक्तिशाली बनते जाने के साथ, गेमिंग लैपटॉप अपने हल्केपन (पोर्टेबिलिटी) की वजह से उनके पसंदीदा बन गए हैं।

3. अल्ट्राबुक्स, ये अल्ट्रापोर्टेबल या मिनी नोटबुक भी कहलाती हैं, जो अधिकांश लैपटॉप से हल्की व पतली होती हैं, जबकि इनमें बैटरी जीवनकाल अपेक्षाकृत अधिक होता है। इनमें ऑप्टिकल ड्राइव जैसे भाग छोड़कर तथा ऊर्जा-कुशल माइक्रोप्रोसेसर उपयोग करके यह विशेषता बनाई जाती है।

Spread the love

Leave a Comment