मस्तिष्क के भीतर चिप कैसे काम करता है

मस्तिष्क के भीतर चिप की तरह कार्य कैसे होता है

आपके मस्तिष्क के भीतर चिप

क्या आपने कभी सोचा है कि केवल सोच विचार करके एक कंप्यूटर के साथ संप्रेषण करने में सक्षम होना संभव हो जाएगा? साधारण कंप्यूटर इम्प्लांट्स श्रवण में सुधार करने या हार्ट अटैक के जोखिम को कम करने के लिए नियमित आधार पर उपयोग किए जाते हैं। हाल ही में, दवाओं के सेवन को नियमित करने और कृत्रिम, अंगों में सुधार करने के लिए इम्लांट्स का उपयोग किया गया है। भविष्य में आप उन विभिन्न डिवाइसों (आमतौर पर सिर पर धारण किए जाने वाले) का उपयोग कर सकते है जो व्हीलचेयर जैसी वस्तुओं को चलाने के लिए आपके मूल विचारों का उपयोग कर सकते हैं। हालांकि, भविष्य प्रत्यारोपित माइक्रोचिप्स में स्थित होगा जो सीधे हमारी तंत्रिका कोशिकाओं से संप्रेषण कर सकती हैं। यद्यपि इनका प्रारंभिक उद्देश्य विविध चिकित्सीय अवस्थाओं का उपचार करना होगा. उनका अंतिम (और विवादास्पद ढंग से) स्वस्थ व्यक्तियों के विभिन्न मस्तिष्क कार्यों में सुधार करने के लिए भी उपयोग किया जा सकता है। तकनीक बेहतर इस्लाम बना रही है और निरंतर हमारे जीवन में सुधार करने के लिए विकसित होती रहेगी क्योंकि हम भविष्य की और देखते है।

एक दशक से अधिक समय से डॉक्टर पारकिसन रोग जैसे कई विचारों का उपचार करने के लिए डीप ब्रेन स्टीमुलेशन (डीबीएस) का उपयोग करने में सक्षम है। इसका कई रोगियों में सफलतापूर्वक उपयोग किया गया है. ये इम्प्लांट्स सिर्फ पूर्व निर्धारित विद्युत आवेगों को मस्तिष्क तक भेजते हैं। वे तंत्रिका कोशिका और मशीन के बीच सक्रिय संप्रेषण में शामिल नहीं होते हैं। शोधकर्ता एक ऐसी प्रोग्रामेबल कंप्यूटर चिप जो रोगी के मस्तिष्क में चल रहे विचारों के प्रति अनुक्रियाशील होती है, का उपयोग करके इसे बदलने की उम्मीद से रेनाचिप (ReNaChip) कहलाने वाली एक चिप पर काम कर रहे हैं यह सिलिकॉन चिप मस्तिष्क की इलेक्ट्रिक गतिविधि को भाप सकती है और फिर रचित संदीपन पहुंचा सकती है, जब और जहां इसकी जरूरत होती है।

एक और मस्तिष्क इम्लाक जिसे वर्तमान में विकसित किया जा रहा है, का उद्देश्य नेत्रहीन की पुनः थोड़ी बहुत दृष्टि हासिल करने में मदद करना है। मस्तिष्क के विजुअल कॉर्टेक्स में एक माइक्रोचिप प्रत्यारोपित की जाती है। यह चिप व्यक्ति द्वारा पहने गए विशेष चश्मे के भीतर स्थित कैमरे के साथ बिना तार के संप्रेषण करेगी। इस कैमरे द्वारा ली गई इमेज चिप द्वारा संसाधित की जाएगी और फिर मस्तिष्क के इस क्षेत्र की तंत्रिकाओं तक सीधे पहुंच जाएगी। अविश्वसनीय दुनिया के करीब पहुंचते शोधकर्ता मानव विचारों को वास्तव में पढ़ने के लिए कंप्यूटरों की क्षमता में सुधार कर रहे हैं। वर्तमान में एक शोध टीम लकवे से पीड़ित व्यक्ति को रोबोटिक हाथ चलाने की अनुमति लेने के उद्देश्य से उसके विचारों को पढ़ने के लिए एक चिप इम्प्लांट और कंप्यूटर का उपयोग करने में सक्षम हो गयी है। हालांकि सफलता की दर 100 प्रतिशत नहीं है और प्रोसेसिंग बुनियादी गतिविधियों तक सीमित है. फिर भी रोगी कॉफी के प्याले के बारे में सोचते हुए उसे पकड़ने के लिए रोबोटिक हाथ को आगे ले जाने में पहले से ही सक्षम हो गया है। इस शोध से उम्मीद की जाती हैं कि लाखों निःशक्त व्यक्तियों के लिए बेहतर विचार-नियंत्रित कृत्रिम उपकरणों को बढ़ावा मिलेगा।

कई नीतिशास्त्र चिकित्सा दशाओं का उपचार करने के बजाय मानव क्षमताओं में सुधार करने के लिए ऐसी विप्स के संभावित उपयोग से चिंतित हैं। उदाहरण के लिए बहुत छोटा चिप्स के बहुत ज्यादा संग्रह करने में सक्षम होने से लोग अपनी याददाश्त में सुधार करने के लिए मस्तिष्क इम्प्लांट का उपयोग कर सकते हैं। यह उन विविध परिदृश्यों का कारण हो सकता है जहां इम्प्लांट वाले व्यक्ति उन व्यक्तियों से अनुचित लाभ उठा सकते हैं जिनके पास ये इम्प्लाट नहीं हैं। हालांकि दूसरे लोग असहमत हैं उनका तर्क है कि तकनीक और जीव विज्ञान का एकीकरण अपेक्षित है, और यह मानव विकास के अगले चरण से ज्यादा कुछ नहीं है। यदि इस तरह की तकनीक व्यापक और सस्ती हो तो क्या आप एक चिप इम्प्लांट करना पसंद करेंगे? क्या आप किसी चिकित्सा दशा के लिए और केवल अपनी मानसिक क्षमताओं को सुधारने के लिए इसके उपयोग के बीच अंतर करना चाहेंे? क्या आपको लगता है कि मानवता का भविष्य मानव जीवविज्ञान के साथ तकनीक के विलय में निहित है?

Spread the love

Leave a Comment