पावर सप्लाई यूनिट किसे कहते हैं

पावर सप्लाई यूनिट से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

कंप्यूटरों को अपने इलेक्ट्रॉनिक पुर्जों को चलाने और डेटा एवं निर्देश दर्शाने के लिए डाइरेक्ट करंट (डीसी) की जरूरत होती है। डीसी पावर को मानक वॉल आउटलेट्स से ऑल्टनेट करट ( एसी) को परिवर्तित करके अप्रत्यक्ष रूप से या सीधे बैटरियों के जरिए प्रदान किया जा सकता है।

1. डेस्कटॉप कंप्यूटर में सिस्टम यूनिट के भीतर स्थित एक पॉवर सप्लाई यूनिट होती है। यह यूनिट जो एसी को डीसी में बदल देती है, एक मानक वॉल आउटलेट प्लग में लगी होती है और सिस्टम यूनिट के सभी पुर्जों को चलाने के लिए पावर प्रदान करती है।

2. आमतौर पर लैपटॉप में उसी एडॉप्टर का उपयोग किया जाता है जो सिस्टम यूनिट के बाहर स्थित होता है। मानक वॉल आउटलेट के प्लग से जुड़ा ऐसी एडॉप्टर उसी को डीसी में बदल देता है, जो सिस्टम यूनिट के पुर्जों को चलाने के लिए पॉवर प्रदान करता है और बैटरी को पिफर से चार्ज कर सकता है। इन कंप्यूटरों को वॉल आउटलेट प्लग से जुड़े एसी एडॉप्टर का उपयोग करके या बैटरी पॉवर का उपयोग करके चलाया जा सकता है। इनकी बैटरियां आमतौर पर आठ घंटो तक पर्याप्त पॉवर प्रदान करती है।

3. इसके लिए उन्हें पहले रिचार्ज की जरूरत होती है। अधिकांश टेबलेट और मोबाइल डिवाइसों में आंतरिक एसी एडॉप्टर का उपयोग किया जाता है जिन्हें मानक वॉल आउटलेट से जोड़ने के लिए केवल का प्रयोग किया जाता है। हालांकि कुछ स्मार्टफोन में केबल की जगह वायरलेस चार्जिंग प्लेटफार्म का उपयोग किया जाता है। इससे अलग अधिकांश लैपटॉप्स, अधिकांश टैबलेट्स, मोबाइल डिवाइसेज और वीयरेबल कंप्यूटरों को केवल बैटरी पॉवर का उपयोग करके ही चलाया जा सकता है। इनके एसी एडॉक्टर या चार्जिंग प्लेटफार्म का उपयोग करके बैटरी रिचार्ज करने के लिए ही किया जाता है।

महत्वपूर्ण टिप्स

क्या आपको लगता है कि आपके लैपटॉप की चार्जिंग पहले की अपेक्षा जल्दी खत्म हो जाती है? ये बैटरीयां समय के साथ पॉवर खो देती हैं; हालांकि आप इस प्रक्रिया को धीमा करने के लिए कुछ कदम उठा सकते हैं।

1. एडॉप्टर और बैटरी उपयोग संतुलित रखें। क्योंकि बैटरी पॉवर पर थोड़ी देर के लिए लैपटॉप का उपयोग करने की सबसे अच्छी आदत यह है कि बैटरी के पूरी तरह ( 50 प्रतिशत चार्ज, उदाहरण के लिए ) से खाली होने से पहले ही इसे पुनः 100 प्रतिशत तक चार्ज कर लिया जाए। आधुनिक बैटरीयों को प्रतिदिन जीरो प्रतिशत तक खाली नहीं किया जाना चाहिए।

2. इसे कैलिब्रेट करें। आपके लैपटॉप निर्माता आपसे नियमित रूप से कुछ महीनों के बाद अपनी बैटरी को कैलिब्रेट या रिसेट करने के लिए कहेंगे। वेब पर या अपने अनुदेश मैनुअल में दिए गए इससे संबंधित दिशानिर्देशों का पालन करें क्योंकि इससे यह सुनिश्चित होगा कि आपके ऑपरेटिंग सिस्टम का बैटरी मीटर सही है और आपको अपेक्षित चार्ज समय मिल रहा है।

3. अत्यधिक गर्मी से बचें। उच्च तापमान आधुनिक बेटियों की खराबी को बढ़ा सकता है। इसलिए अत्यधिक गर्मी के जोखिम से बचें और लैपटॉप कूलर या पंखा खरीदने पर विचार करें।

4. उचित भंडारण। यदि आप अपने लैपटॉप का कुछ सप्ताह तक उपयोग नहीं करने जा रहे हैं तो इस स्थिति में अधिकांश निर्माता आपसे बैटरी बाहर निकालने की सिफारिश करते हैं।

ऊपर बताए गए महत्वपूर्ण टिप्स के अलावा और भी टिप्स जानना चाहते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल पर जाकर देख सकते हैं। यूट्यूब चैनल का लिंक नीचे दिया गया है। इसके अलावा हमारे यूट्यूब चैनल पर आपको इस तरह के बहुत सारे टिप्स मिल जाएंगे जो आपके जीवन को बहुत ही सरल और आसान तरीके से जीने लायक बनाते हैं। इसके अलावा हमारे चैनल पर बहुत सारे टेक्निकल ज्ञान का जानकारी भी दिया जाता है, तो आप चाहते हैं कि इसी तरह आपको और भी नॉलेज मिलता रहे तो आप हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कर लीजिएगा और साथ में घंटी के आइकन को ऑन कर लीजिएगा इससे आगे भी आपको अपडेट मिलते रहेगा।

Spread the love

Leave a Comment