एक्सपैंशन स्लॉट्स, कार्ड और बस लाइन्स क्या है?

एक्सपैंशन स्लॉट्स और कार्ड

जैसा कि पहले बताया गया है, अनेक पर्सनल कंप्यूटर अपने सिस्टम बोर्ड में एक्सप्रेशन स्लॉट्स की व्यवस्था द्वारा सिस्टम को विस्तृत करने की सुविधा देते हैं। उपयोक्ता वैकल्पिक उपकरण इन स्लॉट्स में लगा सकते हैं जो एक्सप्रेशन क्लास कहलाते हैं। कार्ड पर दिए पोर्ट एक्सपैशन काई से केबलों को सिस्टम यूनिट के बाहर के उपकरणों से जोड़ने की सुविधा देते हैं। विभिन्न प्रकार के एक्सपैंशन कार्ड्स की बड़ी रेंज मौजूद है। कुछ सबसे ज्यादा उपयोग किए जाने वाले एक्सप्रेशन कार्ड ये है;

  1. ग्राफिक्स कार्ड, जो गोम्स और सिम्युलेशन के लिए उच्चकोटि के 3डी ग्राफिक्स और एनिमेशन प्रदान करते हैं। जहां कुछ पर्सनल कंप्यूटर सिस्टम्स में जीपीयू सीधे सिस्टम बोर्ड से जुड़ा होता है, वहीं अन्य में यह ग्राफिक्स के ध्यम से जुड़़ता है। इस कार्ड में एक या कई जीपीयू चिप्स हो सकते हैं और यह अधिकाश गम कंप्यूटर में मानक है।
  2. नेटवर्क इंटरफेस कार्ड (एनआईसी), ये नेटवर्क एडॉप्टर कार्ड भी कहलाते हैं, जो कंप्यूटर को नेटवर्क से जोड़ने के लिए प्रयोग किए जाते हैं। नेटवर्क से जुड़े कंप्यूटरों में डेटा, प्रोग्राम और हार्डवेयर साझा करने की सुविधा मिलती है। नेटवर्क एडॉप्टर कार्ड प्रायः सिस्टम यूनिट को एक केबल से जोड़ता है जो नेटवर्क से जुड़ती है।

  3. वायरलेस नेटवर्क कार्ड कंप्यूटर को केबलों के बिना जोड़ते हैं। घरों में वायरलेस नेटवर्क एक ही इंटरनेट कनेक्शन साझा करने के लिए व्यापक उपयोग किए जाते हैं। नेटवर्क पर प्रत्येक डिवाइस वायरलेस नेटवर्क कार्ड से लैस होती है जो अन्य डिवाइसों से संपर्क स्थापित करती है।

लैपटॉप कंप्यूटर, टैबलेट, और स्मार्टफोन के छोटे आकार के अनुरूप, नाखून के आकार वाले एक्सपैंशन का विकसित किए गए हैं जो एसडी कार्ड कहलाते हैं। ये कार्ड उन एक्सपैंशन स्लॉट्स में लगाए जाते हैं जो अनेक लैपटॉप, टैबलेट, और स्मार्टफोन में बने होती हैं।

बस लाइन्स

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, एक बस लाइन-जिसे केवल बस भी कहा जाता है-सोपीयू के भागों को परस्पर जोड़ती है। बसें, सीपीयू को सिस्टम बोर्ड के अन्य अनेक भागों से भी जोड़ती हैं। डेटा और निर्देश निरूपित करने वाली बिट्स के लिए बस एक मार्ग होता है। एक बस में एक ही समय पर जा सकने वाली बिट्स की संख्या, बस विड्थ कहलाती है।

बस, कई लेन वाले हाईवे की तरह होती है, जिस पर कारों के बजाय बिट्स एक से अन्य स्थान की ओर आवागमन करती हैं। ट्रैफिक लाइनों को संख्या. बस विड्थ बताता है। ज्यादा ट्रैफिक लाइनों (बस विड्थ) वाले हाईवे (बस लाइन) पर अधिक यातायात (डेटा और निर्देश) अधिकार सुचारु सरीके से चल सकता है। उदाहरण के लिए, 64-बिट बस, 32-बिट बस को तुलना में एक बार में दोगुनी सूचना पहुंचा सकती है। बस लाइनों के बारे में विचार करना आपके लिए क्यों आवश्यक है? क्योंकि जिस तरह माइक्रोप्रोसेसर चिप्स में बदलाव हुए हैं. उसी तरह बस लाइनों में भी हुए हैं बस डिजाइन या बस की बनावट, किसी विशेष कंप्यूटर की गति और शक्ति से संबंधित एक महत्वपूर्ण पहलू होता है। इसके अलावा अनेक उपकरण जैसे कि एक्सपैशन कार्ड्स केवल एक तरह की बस पर काम करते हैं।

प्रत्येक कंप्यूटर सिस्टम में बसों की दो मूल श्रेणियां होती हैं। एक श्रेणी सिस्टम बस कहलाती है जो सीपीयू को सिस्टम बोर्ड पर मैमोरी से जोड़ती है। दूसरी श्रेणी एक्सपैंशन बस कहलाती है जो सीपीयू को सिस्टम बोर्ड के दूसरे भागों से जोड़ती है जिनमें एक्सपैशन स्लॉट्स भी शामिल हैं।

एक्सपैंशन बस

कंप्यूटर सिस्टम में आमतौर से विभिन्न प्रकार की बसों का सयोजन होता है। यूएसबी, फायरवायर और पीसीआईई इनके प्रमुख प्रकार हैं।

  1. यूनिवर्सल सीरियल बस (यूएसबी ) का अब व्यापक उपयोग किया जाता है। बाहरी यूएसबी उपकरण एक-दूसरे से या एक कॉमन प्वाइंट या हब से और फिर यूएसबी बस में जुड़े होते हैं। यूएसबी बस तब सिस्टम बोर्ड पर पीसीआई बोर्ड से जुड़ती है। वर्तमान यूएसबी मानक यूएसबी 3.1 है।
  2. फायरवायर बस ये यूएसबी बसों के समान होते हैं लेकिन अधिक विशिष्ट होते हैं। ये प्रमुख रूप से सिस्टम बोर्ड से ऑडियो और वीडियो उपकरण जोड़ने के लिए उपयोग किए जाते है।
  3. पीसीआई एक्सप्रेस ( पीसीआईई) को आज के अधिकांश सबसे शक्तिशाली कंप्यूटर में उपयोग किया जाता है। अधिकांश अन्य बसों में जहां अनेक उपकरणों से एक ही बस लाइन या पाथ साझा होता है, वहीं पीसीआईई बस प्रत्येक जुड़े उपकरण के लिए अलग निश्चित पाथ उपलब्ध कराती है।
Spread the love

Leave a Comment